पॉकेट में एक रूपया भी नहीं था, ट्रेन की बाथरूम का पीला पानी पीकर सूरत से बिहार आये मेरे बच्चे, कहते ही फफक कर रोने लगी माँ और फिर….


एक दिल दहला देनेवाला मामला भी सामने आया है। एक परिवार जो स्पेशल ट्रेन से सूरत से बिहार आ रहा था, ने पूरे रास्ते अपने बच्चों को प्यास बुझाने के लिये बाथरूम का गंदा पानी पिलाया। जेब में एक भी रुपया नहीं था कि वह पानी की बोतल खरीद सकें। पटना में दो पुलिस के जवानों को जब पीड़ा सुनाई तो उनका कलेजा पिघल गया। उन्होंने दानापुर स्टेशन पर न सिर्फ खाने पीने का सामान दिया बल्कि नगद रुपये भी दिये।
हिंदुस्तान न्यूज पेपर की एक रिपोर्ट के मुताबिक मोहम्मद सलाउद्दीन, उसकी पत्नी और तीन बच्चों की हालत इस सफर से खराब हो गई है। सूरत में दाने-दाने को मोहताज थे। ट्रेन चली तो वहां से निकल लिये। 
सूरत से लेकर पटना तक कोरोना काल में उन्हें दुश्वारियां ही मिली हैं। पहले तो सूरत में उन्होंने कई दिनों तक भूखे पेट रात बिताये। इसके बाद रही सही कसर ट्रेन ने दूर कर दी। सलाउद्दीन ने कहा- सूरत से ट्रेन चली तो बोगी में बहुत भीड़ थी। एक दम मारामारी की स्थिति थी। छोटे बच्चों को लेकर संक्रमण के इस काल में घर तक जाना बड़ी चुनौती थी। भीड़ के कारण डर लग रहा था कि बच्चे कैसे संक्रमण से बच पायेंगे। ट्रेन में भी न तो खाना की व्यवस्था थी और न ही पानी की।
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments