पीएम नरेंद्र मोदी और मनमोहन सिंह के कामों में क्या है अंतर, जानिए

आज हम आपको बताने वाले हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मनमोहन सिंह के द्वारा किए गए कार्यों में प्रमुख अंतर क्या है, और दोनों सरकार में कैसे परिणाम सामने आए। इसके लिए हम 5 पैमानों पर भारत सरकार के आंकड़ों के सबूत के साथ दोनों के कामों की तुलना करेंगे। नीचे लिखी गई बातें काशी हिंदू विश्वविद्यालय के फाइनेंस एंड इकोनॉमिक्स थिंक काउंसिल की रिपोर्ट में उल्लिखित है।
2014 में भारतीय जनता पार्टी ने पूर्ण बहुमत हासिल किया था और अपने सहयोगियों के साथ मिलकर 330 से अधिक लोकसभा सीटें जीती थी। वहीं 2009 से 2014 तक कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार रही। पांच पैमानों पर दोनों सरकार के कार्यों के परिणाम निम्नलिखित है...

1.जीडीपी की विकास दर


Copyright Holder: To the Point
भाजपा सरकार का कहना है कि उनके कार्यकाल में अर्थव्यवस्था के सुधार के लिए कोई ठोस कदम जैसे इंसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड, जीएसटी और कई ढांचागत सुधार किए। आपको बता दें कि 2009 से 2014 तक भारत की जीडीपी विकास दर औसतन 6.7% रही। वहीं 2014 से 2019 के दौरान भारत की जीडीपी 7.5 प्रतिशत की दर से बढ़ी।

2. आतंकवादियों का खात्मा


Copyright Holder: To the Point
साउथ एशिया टेररिज्म पोर्टल के अनुसार 2004 से 2013 तक 10 साल के कार्यकाल में 4241 आतंकियों को मारा गया, जिनमें से UPA सरकार - 1 के कार्यकाल (2004-09) में 3424 आतंकी सेना ने मार गिराए। मोदी सरकार के कार्यकाल मई 2014 से 17 जून 2018 तक के आंकड़ों के अनुसार 701 आतंकी मारे गए। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि अटल बिहारी बाजपेई के सिर्फ 6 साल के कार्यकाल (मार्च 1998 से मई 2004) में 10,147 आतंकियों को सेना ने मार गिराया था।

3.एयरलाइंस

वर्तमान मोदी सरकार ने पूर्ववर्ती सरकार की अपेक्षा एयरलाइंस क्षेत्र में अप्रत्याशित सफलता पाई है। जहां पूर्ववर्ती सरकार में एयरलाइन में यात्रियों की बढ़ोतरी प्रतिवर्ष 9.20% की दर से हो रही थी, वहीं वर्तमान सरकार में यह 15.28 % की दर से हो रही है।

4. विदेश नीति

2009 से 2014 तक यूपीए सरकार के कार्यकाल में विदेश नीति व्यावहारिक की अपेक्षा सैद्धांतिक ज्यादा थी, जो कि वर्तमान समय की आवश्यकता के विपरीत है। मोदी सरकार ने व्यावहारिक विदेश नीति की आवश्यकता को समझते हुए भारत के वैश्विक ताकतों के साथ संबंधों में सामंजस्य बिठाया है। इसे एक उदाहरण द्वारा समझा जा सकता है इजरायल और फिलिस्तीन, (जिन के बीच तनाव चरम पर है) के भारत के साथ अच्छे संबंध है। इसके अलावा भारत पूंजीवादी देश अमेरिका के साथ अपने संबंधों को विकास के पथ पर ले जा रहा है तो वही अपने सदाबहार दोस्त रूस का हाथ मजबूती से थामे हुए हैं।

5. परिवर्तन लाने वाली योजनाएं


Copyright Holder: To the Point
यूपीए सरकार में कई ऐसी योजनाएं लागू की गई, जिसने आम आदमी के जीवन को सुधारने में अपना योगदान दिया। यूपीए 2 की प्रमुख योजनाओं में मनरेगा ( हालाकि यूपीए 1 के कार्यकाल में), खाद्य सुरक्षा कानून, डायरेक्ट बेनिफिट स्कीम, शिक्षा का अधिकार और सूचना का अधिकार(यूपीए 1 के कार्यकाल में) जैसे प्रभावी कानून बनाए गए।
2014 से 2019 तक नरेंद्र मोदी की सरकार में भी कई ऐसी योजनाएं लागू की जिसने आम आदमी के जीवन स्तर को ऊपर उठाया है। इन योजनाओं में जन धन योजना, आयुष्मान भारत, स्वच्छ भारत मिशन, उज्जवला योजना और सुकन्या समृद्धि योजना प्रमुख है।
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments