सौरव गांगुली, धोनी और विराट कोहली में से किसकी 183 रनों की पारी थी सबसे धमाकेदार, जानें

भारतीय क्रिकेट में यह कोई इत्तेफाक से कम नहीं हैं की जब-जब भारतीय क्रिकेटर ने वनडे क्रिकेट में 183 रन बनाए हैं उसे टीम का कप्तान चुना गया हैं। जिसमें भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली, महेंद्र सिंह धोनी और वर्त्तमान कप्तान विराट कोहली का नाम शामिल हैं। तीनों ही दिग्गज का वनडे करियर का सर्वाधिक स्कोर 183 रनों का हैं।

Third party image reference
आज इस लेख में सौरव गांगुली, महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली द्वारा बनाई गई 183 रनों की पारी पर नजर डालेंगे और जानेंगे की इनमें से किसकी पारी सबसे धमाकेदार थी।
1. सौरव गांगुली:
साल 1999 के वर्ल्ड कप के दौरान इंग्लैंड के टॉन्टन में श्रीलंका के खिलाफ हुए एक मुकाबले में भारतीय टीम का सामना चमिंडा वास और मुथैया मुरलीधरन जैसे दिग्गज गेंदबाजों से था। इस मैच में चमिंडा वास ने अपने पहले ही ओवर में जब ओपनर सदगोपन रमेश को क्लीन बोल्ड किया तो लगा कि सभी विकेट अब धड़-धड़ कर गिर जाएंगे, लेकिन गांगुली ने द्रविड़ के साथ मिल कर संभाल लिया।

Copyright Holder: SBN News
सौरव गांगुली ने 210 मिनट तक क्रीज पर संघर्ष करते हुए 115.82 की स्ट्राइक रेट से 183 रन बनाए थे। इस दौरान उन्होंने महज 158 गेंदों में 17 चौके और 7 छक्के लगाए।
इतना ही नहीं इस मैच में दूसरे विकेट के लिए सौरभ गांगुली और राहुल द्रविड के बीच शानदार साझेदारी हुई थी। राहुल द्रविड ने 129 गेंदों में 145 रन जड़ दिए। भारत ने इस साझेदारी की बदौलत 6 विकेट खोकर 373 रन बनाए।
इस मैच में गांगुली का बल्ला कुछ ऐसे गरज रहा था मानो जैसे वे सुनामी लाने के लिए ही खेल रहे हों। उनके कुछ शॉट्स पर तो फील्डर्स ने हिलने की कोशिश तक नहीं की। गेंद उनके बल्ले से लग कर सीधे बाउंड्री पार जाकर ही रुकी।
2. महेंद्र सिंह धोनी:
साल 2005 में भारतीय टीम का सामना श्रीलंका से हुआ था। मुकाबला जयपुर के सवाईमान सिंह स्टेडियम में था। पहले बल्लेबाजी करते हुए श्रीलंका ने 298 रन का पहाड़ स्कोर खड़ा किया था। ओपनर कुमार संगकारा ने भारतीय गेंदबाजों की खबर लेते हुए ताबड़तोड़ 138 रन की नाबाद पारी खेली थी।


Copyright Holder: SBN News
उस मैच में टीम इंडिया के कप्तान रहे राहुल द्रविड़ ने युवा बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी को तीसरे क्रम पर खेलने का मौका दिया। उस समय टीम ने महज 7 रन के योग पर ओपनर सचिन तेंडुलकर का विकेट गंवा दिया था।
महेंद्र सिंह धोनी ने इस मैच में महज 145 गेंदों में 126.20 की स्ट्राइक रेट से 15 चौके और 10 छक्के जड़ते हुए नाबाद 183 रन की पारी खेल डाली और टीम इंडिया को बेहतरीन जीत दिला दी। इस मैच में धोनी ने 183 रन बनाकर एडम गिलक्रिस्ट के 172 रनों के रिकॉर्ड को तोड़ा था। ये रिकॉर्ड आज बी धोनी के नाम बरकरार है।
3. विराट कोहली:
साल 2012 में एशिया कप की मेजबान बांग्लादेश ने की थी। 18 मार्च को टूर्नामेंट का सबसे अहम मुकाबला भारत और पाकिस्तान के बीच खेला गया था।
इस मैच में पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। नासिर जमशेद(112) और मोहम्मद हफीज(105) ने पाकिस्तान को शानदार शुरुआत दी और पहले विकेट के लिए 225 रन की साझेदारी की। दोनों ही खिलाड़ियों के शानदार शतक और यूनिस खान(52) के अर्धशतक की बदौलत पाकिस्तान ने 50 ओवर में 6 विकेट पर 329 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया। 

Copyright Holder: SBN News
जीत के लिए 330 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत बेहद खराब रही और पारी की दूसरी ही गेंद पर गौतम गंभीर मोहम्मद हफीज की गेंद पर एलबीडब्ल्यू होकर पवेलियन लौट गए। ऐसे में बल्लेबाजी करने 22 साल के युवा विराट कोहली उतरे। इस मैच में विराट कोहली ने 148 गेंदों पर 183 रन बनाए थे। जिसमें उन्होंने 22 चौके और एक छक्का जड़ा था। इस मैच को इंडिया ने 13 गेंद शेष रहते हुए 6 विकेट से जीता था।
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments