सुकमा : मुठभेड़ के बाद लापता कुछ जवान वापस लौटे कैंप, 16 घायल, कुछ अब भी है लापता

सुकमा : मुठभेड़ के बाद लापता कुछ जवान वापस लौटे कैंप, 16 घायल, कुछ अब भी है लापता
शिवा यादव,सुकमा। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के चिंतागुफा इलाके में एलमागुंडा के पास शनिवार को सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुए मुठभेड़ में तीन जवान शहीद हो गए है. मुठभेड़ में घायल 16 जवानों के नाम सामने आए है. लापता जवानों में से कुछ जवानों को ढूंढ निकाला गया है. हालांकि अभी भी कुछ जवान लापता है, जिनकी तलाश की जा रही है.
मुठभेड़ में घायल जवानों में एसटीएफ के जवान इंद्रेश साहू, सोनू, मुकेश मंडावी और सालिक राम शामिल है. वहीं डीआरजी के जवानों में कुंजाम रमेश, ताति हूँगा, मड़कम भीमा, माड़वी केसा, सलवम जोगा, नुप्पो जेलू, कट्टम राजू, संजय कवासी, विनय दुधी, माड़वी मुकेश, सोड़ी जोगा, धुरवा सुब्बा शामिल है. इस तरह कुल मिलाकर 16 घायल जवान घायल है.
बताया जा रहा है कि शनिवार को बुरकापाल से डीआरजी के टीम स्पेशल ऑपरेशन को अंजाम देने निकली थी. जहां घात लगाए नक्सलियों ने जवानों पर फायरिंग कर दिया. जिसमें कई घायल और कई जवान लापता हो गए थे. जिनकी खोजबीन करने के लिए डीआरजी, कोबरा और एसटीएफ की टीम रात भर जंगल में घूमती रही. सुबह तक कुछ लापता जवान वापस कैंप आ गए, कुछ को ढूंढ निकाला गया है, तो कुछ अभी भी जवान लापता बताए जा रहे हैं. बुरकापाल से 5 किमी दूर मिंपा के जंगलों में यह मुठभेड़ हुआ था.
मुठभेड़ में घायल 14 जवानों को रायपुर के रामकृष्ण केयर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. जिनमें से 12 जवानों की हालत सामान्य है एवं 2 जवान गंभीर रूप से घायल हैं. जिनका इलाज जारी है. कई बड़े नक्सली नेताओं के मारे जाने और घायल होने की खबर है. जबकि एक नक्सली शव बरामद कर लिया गया है.
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments