खुल गया राज! मायावती ने क्यों नहीं की शादी, एक क्लिक में जानें सच्चाई

त्तर प्रदेश की राजनीति में बहुजन समाजवादी पार्टी (बसपा) की एक बड़ी भूमिका है। कई बार यूपी की सत्ता संभाल चुकी बसपा सुप्रीमो मायावती को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजनीति में बहुजन समाजवादी पार्टी (बसपा) की एक बड़ी भूमिका है। कई बार यूपी की सत्ता संभाल चुकी बसपा सुप्रीमो मायावती को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है।
उत्तर प्रदेश की राजनीति में जब भी बड़े नेताओं का जिक्र होता है, मायावती का नाम जरूर सामने आता है। मायावती के राजनीतिक जीवन के बारे में तो लोगों को बहुत पता होगा लेकिन उनके निजी जीवन की जानकारी कम ही लोगों को होगी, तो चलिए हम आपको उनके जीवन से जुड़े कुछ राज के बारे में बताते हैं…

आईएएस अधिकारी बनना चाहती थीं मायावती


15 जनवरी 1956 को जन्मी मायावती बसपा अध्यक्ष हैं और राजनीति में बेहद सक्रिय हैं। उनकी इच्छा अब प्रधानमंत्री पद संभालने और राष्ट्रीय स्तर का नेता बनने की भी है। हालांकि कम ही लोगों को पता होगा कि मायावती तो राजनीति में आना ही नहीं चाहती थीं। जी हां! वो तो आईएएस अधिकारी बनना चाहती थीं। इसी वजह से वो दिल्ली में रहकर सिविल सर्विसेज की तैयारी करना चाहती थीं। हालांकि कांशीराम की वजह से वो राजनीति में आ गईं और उनको 2001 को कांशीराम ने अपना उत्तराधिकारी घोषित किया।

पिता प्रभुदास को नहीं पसंद था मायावती का ये फैसला

मायावती के पिता का नाम प्रभुदास था। कम ही लोगों को पता होगा कि मायावती के पिता प्रभुदास उनके राजनीति में जाने के फैसले से बेहद नाराज थे। इतना ही नहीं उनको मायावती और कांशीराम की नजदीकियां भी पसंद नहीं थीं।

उन्होंने तो मायावती को कांशीराम से दूर रहने तक को कह दिया था। हालांकि मायावती ने अपने पिता की बात नहीं मानी और कांशीराम के साथ राजनीति में उतरने का फैसला ले लिया।

…तो इसलिए मायावती ने नहीं किया शादी

मायावती ने पत्रकार राजीव शुक्ला को दिए गए इंटरव्यू में बताया था कि उन्होंने शादी न करने का फैसला अपने समाज की वजह से लिया। मायावती ने बताया था कि अगर वो शादी कर लेतीं तो दुनियादारी में उलझ जातीं और इसके बाद मिशन के काम पर ध्यान नहीं दे पातीं। इसी वजह से उन्होंने शादी नहीं की।
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments