सिर्फ उदय चोपड़ा ही नहीं यह सितारे भी बन गए हैं, चॉकलेटी बॉय से रसगुल्ले



Third party image reference
हिमांशु मलिक
मीरा नायर की 'कामसूत्र-द टेल ऑफ लव' से हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में डेब्यू करने वाले हिमांशु मलिक को आज भी नहीं पहचाना जाता है।
कभी हैंडसम मॉडल और अभिनेता रहे हिमांशु आज बहुत मोटे हो गए हैं। उन्होंने 'जंगल', 'तुम्बिन', 'ख्वाहिश', 'रोग', 'कोई आप' और 'यमला पगला दीवाना' जैसी हिंदी फिल्मों में अभिनय किया। उसके बाद से उनकी कोई भी फिल्म प्रदर्शित नहीं हुई।
आज उन्होंने निर्देशक बनने के लिए अभिनेता की लाइन छोड़ दी है। उन्होंने फिल्म 'चित्रकूट' का निर्देशन भी किया है। फिल्म 'ख्वाहिश' में हिमांशु ने 16 बार एक साथ काफी चर्चा की थी।

Third party image reference
चंद्रचूड़ सिंह
कई लोग एक समय में लाखों दर्शकों के दिल में चंद्रचूड़ को भूल गए हैं। उस समय उन्हें चॉकलेट बॉय के रूप में जाना जाता था। लेकिन आज वह पूरी तरह से बदल गया है।
अगर वह सार्वजनिक रूप से देखा जाता है, तो कोई भी उसे पहचान नहीं पाएगा। आजकल वह बहुत अधिक वजन की दिख रही है। उन्होंने 1996 में आई फिल्म माचिस से अपना डेब्यू किया। इस फिल्म की सफलता के बाद उन्हें कई बड़ी फिल्में भी ऑफर की गईं।
जिसके बाद उन्होंने कई हिंदी फिल्मों जैसे तेरे मेरे सपने ’, i बेताबी’, K दिल क्या करे ’, are दाग-धू की आग’, 'जोश ’और K क्या कहना’ में काम किया। लेकिन उनकी कई फिल्में असफल रहीं। जिसके बाद उनका पूरा करियर भी खत्म हो गया था।
चंद्रचूड़ को इन दो फिल्मों, आखिरी झिला गाजियाबाद और 'द रिलेटेंट फंडामेंटलिस्ट' में देखा गया था। जिसके बाद से आज तक उन्हें किसी ने नहीं देखा।

Third party image reference
फरदीन खान
दिवंगत बॉलीवुड अभिनेता फ़िरोज़ खान के बेटे फरदीन खान ने 1998 की फ़िल्म 'प्रेम अगन' से फ़िल्म उद्योग में अपनी शुरुआत की।
लेकिन फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर ज्यादा सफलता हासिल नहीं की। उस समय फरदीन अपनी फिल्म से ज्यादा अपनी एंगट लाइफ को लेकर काफी चर्चा में रहे थे।
उस समय फरदीन ड्रग और जेल विवादों में भी शामिल था। साथ ही, उनकी कोई भी फिल्म कई सालों तक रिलीज़ नहीं हुई। साथ ही उनका पूरा करियर भी खत्म होता नजर आ रहा है।
उन्हें आखिरी फिल्म दूल्हा मिल गया में देखा गया था। उन्होंने अब तक 'देव', 'हे बेबी', 'फिदा', 'नो एंट्री', 'लाइफ पार्टनर' और 'ऑल द बेस्ट' जैसी फिल्मों में अपने अभिनय का जौहर दिखाया है।

Third party image reference
हरमन बावेजा
हरमन बावेजा फिल्म निर्माता हैरी बावेजा के पुत्र हैं। हैरी ने 2008 में अपने सुंदर बेटे को लॉन्च किया। हरमन बावेजा ने 2005 की फिल्म लव स्टोरी 2050 में अपनी शुरुआत की।
लेकिन यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर ज्यादा असर नहीं दिखा पाई थी। उसके बाद हरमन ने 'विक्ट्री' (2009), 'वोट योर राशी' (2009) और 'धिसकानू' (2014) जैसी हिंदी फिल्मों में काम किया।
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments