इस घड़ी में कभी नहीं बजते 12, सदियों पुरानी कहानी से जुड़ा है ये राज...!

आमतौर पर हमारे देश में 12 अंक को अशुभ माना जाता है। तभी तो बहुत लोग ये कहते नजर आते हैं कि आपके चेहरे पर 12 क्यों बजे हैं, किन्तु आपको जानकर परेशानी होगी कि संसार में एक ऐसी भी घड़ी है, जिसमें कभी 12 बजे बजते ही नहीं है। इसके पीछे की वास्तविकता जानकर आप परेशान हो जाएंगे।

ये अजीबोगरीब घड़ी स्विटजरलैंड के सोलोथर्न शहर में है। इस शहर के टाउन स्क्वेयर पर एक घड़ी लगी है। उस घड़ी में घंटे के केवल 11 अंक ही हैं। उसमें से नंबर 12 गायब है। वैसे यहां पर और भी कई घड़ियां हैं, जिसमें 12 नहीं बजते।

इस शहर की सबसे बड़ी खासियत है कि यहां के लोगों को 11 नंबर से बहुत लगाव है। यहां की जो भी चीजे हैं उनका डिजाइन 11 नंबर के आस-पास ही घूमता रहता है।

आपको जानकर परेशानी होगी कि इस शहर में चर्च और चैपलों की संख्या 11-11 ही है। इसके अतिरिक्त संग्रहालय, ऐतिहासिक झड़ने और टावर भी 11 नंबर के हैं।

यहां के सेंट उर्सूस के मुख्य चर्च में भी 11 नंबर का महत्व आपको साफ दिख जाएगा। दरअसल, यह चर्च भी 11 साल में ही बनकर तैयार हुआ था। यहां तीन सीढ़ियों का सेट है और प्रत्येक सेट में 11 पंक्तियां हैं। इसके अतिरिक्त यहां 11 दरवाजे और 11 घंटियां भी हैं।

यहां के लोगों को 11 नंबर से इतना लगाव है कि वो अपने 11वें जन्मदिन को विशेष प्रकार से सेलिब्रेट करते हैं। इस अवसर पर दिए जाने वाले तोहफे भी 11 नंबर से ही जुड़े होते हैं।

11 नंबर के प्रति लोगों के इतने लगाव के पीछे एक सदियों पुरानी मान्यता है। कहते हैं कि एक वक़्त में सोलोथर्न के लोग बहुत मेहनत करते थे, लेकिन इसके बावजूद उनके जिंदगी में खुशियां नहीं थी। कुछ समय के बाद यहां की पहाड़ियों से एल्फ आने लगे और उन लोगों का हौसला बढ़ाने लगे। एल्फ के आने से वहां के लोगों के जिंदगी में खुशहाली आने लगी।

दरअसल, एल्फ के बारे में जर्मनी की पौराणिक कहानियों में सुनने को मिलता है। कहते हैं कि इनके पास अलौलिक शक्तियां होती हैं और जर्मन भाषा में एल्फ का मतलब 11 होता है। इसलिए सोलोथर्न के लोगों ने एल्फ को 11 नंबर से जोड़ दिया और तब से यहां के लोगों ने 11 नंबर को महत्व देना शुरू कर दिया।
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments