DDLJ की वो बातें जो आप 22 साल बाद भी नहीं जानते होंगे...

एक रिकॉर्ड तोड़ और ब्लॉकबस्टर फिल्म दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे- जिसने कई कलाकारों को एक नई पहचान दी. अगर आज भी किसी चैनल पर ये फिल्म आ रही हो तो घरवाले सारे काम छोड़ बस 'राज' और 'सिमरन' में खो जाते हैं. फिल्म ने शाहरुख खान और काजोल के करियर को नई ऊंचाइयां दी. बतौर डायरेक्टर आदित्य चोपड़ा की ये पहली फिल्म थी. बड़े-बड़े शहरों में कई छोटी-छोटी बातें होती रहती होंगी, लेकिन इस फिल्म की तमाम छोटी छोटी बातें हैं जिनके बारे में आप नहीं जानते होंगे...

Third party image reference
1. अदित्य चोपड़ा इस फिल्म में टॉम क्रूज को हीरो कास्ट करना चाहते थे और फिल्म का पहला टाइटल भी था 'द ब्रेवहर्ट विल टेक द ब्राइड'. जाहिर है कि अगर टॉम क्रूज ये फिल्म करते तो ना तो शाहरुख जैसे फनी फेस बनाते और ना ही पीली सरसों के खेत में नाचते. पर हां, शाहरुख को फिर किंग ऑफ रोमांस का खिताब इतनी आसानी से नहीं मिलता. तब यश चोपड़ा ने आदित्य को समझाया और बात शाहरुख पर जाकर अटकी.
2. शाहरुख भी कहां इस फिल्म के लिए आसानी से माने. आदित्य चोपड़ा को शाहरुख के साथ 4 मीटिंग करनी पड़ी, तब जाकर उन्होंने रोल स्वीकार किया. मतलब यही लकी थे शाहरुख जो किस्मत ने 4 बार उनका दरवाजा खटखटाया. अगर शाहरुख नहीं मानते तो आदित्य की अगली पसंद सैफ अली खान थे.
3. फिल्म का फाइनल टाइटल 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' किरण खेर ने दिया था.
4. आदित्य बतौर डायरेक्टर अपनी पहली फिल्म को ऐसे बनाना चाहते थे जिसमें 3 जोड़ियों की प्रेम कहानी और एक म्यूजिक टीचर हो. मगर उनकी पह‍ली फिल्म रही 'डीडीएलजे'. आखिरकार उनका सपना पूरा हुआ साल 2000 में फिल्म 'मोहब्बतें' से.
5. इस फिल्म में शाहरूख ने जो फेमस लेदर जैकेट पहनी उदय चोपड़ा ने कैलिफोर्निया के बेकर्सफील्ड में हार्ले-डेविडसन के शोरूम से 400 डॉलर में खरीदी थी.

Third party image reference
6. फिल्म में काजोल (सिमरन) के मंगेतर (कुलजीत) के रोल के लिए भी पहले अरमान कोहली से बात की गई थी. लेकिन क्योंकि ऑडिशन पर परमीत सेठी बूट्स, जीन्स और वेस्टकोर्ट पहन कर आए, तो वो स्क्रीन टेस्ट में पास हो गए.
7. फिल्म के लिए पहला रिकॉर्ड होने वाला गाना था 'मेरे ख्वाबों में जो आए'. आदित्य चोपड़ा ने 24 बार आनंद बख्शी साहब से अलग-अलग लाइनें बदलकर ये गाना लिखवाया और फिर फाइनल किया.
8. इस फिल्म के गाने 'मेहंदी लगा के रखना' में काजोल के लिए मनीष मल्होत्रा ने हरे रंग का सूट डिजाइन किया था. लेकिन चोपड़ा वहां भी अड़ गए कि पंजाबी परिवारों में लड़कियां लाल, मरून या गुलाबी कपड़े पहती हैं.

Third party image reference
9. फिल्म का सुपरहिट सॉन्ग 'तुझे देखा तो ये जाना सनम' जिन पीली सरसों के खेतों में शूट हुआ है, वो और कही नही गुड़गांव में है.
10. आदित्य चोपड़ा ने शाहरुख का नाम इस फिल्म में 'राज' रखा जो कि शोमैन राज कपूर की फिल्म से प्रेरित था. फिल्म में उनका पूरा नाम राजनाथ था, जो कि 1973 की फिल्म 'बॉबी' में ऋषि‍ कपूर के नाम से प्रेरित था.
11. फिल्म के एक सीन में अनुपम खेर शाहरुख को अपने दादा परदादा की पढ़ाई में नाकामयाबी के किस्से सुनाते हैं. दरअसल वो अनुपम खेर के सगे अंकल के नाम हैं जो कि वाकई पढ़ाई में कुछ खास अच्छे नहीं रहे.
12. यही वो पहली फिल्म थी जिससे मंदिरा बेदी ने छोटे पर्दे से बड़े पर्दे पर अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत की.

Third party image reference
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments