ये है सिनेमाघरों में सबसे ज्यादा चलने वाली बॉलीवुड की १० फ़िल्में और उनसे जुड़ी रोचक बातें

दोस्तों, आज की तारीख में थिएटरों में फ़िल्में लगने के कुछ दिनों के अंदर ही उन फिल्मों का बिज़नेस तय हो जाता है कि फिल्म हिट रही या फ्लॉप। आज के दिनों की बड़ी फ़िल्में बड़ी मुश्किल से किसी थिएटर में १०० दिन तक टिक पाती है। 'सिल्वर जुबली' और 'गोल्डन जुबली' का ज़माना अब नहीं रहा, मगर आज हम आपको कुछ ऐसी फिल्मों के बारे में बताने जा रहे है जो सबसे लम्बे समय तक सिनेमाघरों में लगे रहने का रिकॉर्ड भी बना चुकी है।

Third party image reference

१०. मोहब्बतें

आदित्य चोपड़ा निर्देशित इस फिल्म के जरिए लोगों ने पहली बार बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन और बादशाह शाहरुख खान को एकसाथ पर्दे पर देखा था। इन दोनों के अलावा इस फिल्म में जिमी शेरगिल, उदय चोपड़ा, जुगल हंसराज, प्रीति झंगियानी, शमिता शेट्टी और किम शर्मा भी नजर आए थे।

Third party image reference
२७ अक्टूबर २००० में रिलीज़ हुई यह फिल्म करीब १ साल यानी ५० हफ्तों तक कई सिनेमाघरों में लगी रही थी। १९ करोड़ के बजट में बनी इस फिल्म ने घरेलु मार्केट में करीब ७०.६२ करोड़ रुपये और विदेशी मार्किट से करीब २० करोड़ रुपयों की कमाई की थी।

Third party image reference
रोचक बात - इस फिल्म में 'गुरुकुल' नाम के जिस स्कूल को दिखाया गया था, उसका सेटअप इंग्लैंड के लन्दन शहर में लगाया गया था।

Third party image reference

९. कहो ना प्यार है

राकेश रोशन द्वारा निर्देशित इस फिल्म 'कहो ना प्यार है' के जरिये ऋतिक रोशन और अमीषा पटेल ने डेब्यू किया था। १४ जनवरी २००० में रिलीज़ हुई ये फिल्म सिनेमाघरों में करीब १ साल तक लगी रही थी। इसी फिल्म ने ऋतिक रोशन को रातोंरात सुपरस्टार बना दिया और ऋतिक युवाओं, खासकर लड़कियों के पसंदीदा हो गए थे।

Third party image reference
साल २००० में हुए अवार्ड शो में ऋतिक की इस फिल्म ने अलग-अलग कैटेगरी में कुल १०२ अवार्ड जीते थे और अपना नाम लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड्स में भी दर्ज करवाया है। करीब १० करोड़ के लागत में बनी इस फिल्म ने कुल ६२ करोड़ का बिज़नेस किया है।

Third party image reference
रोचक बात - इस फिल्म के अभिनेता ऋतिक रोशन बॉलीवुड के वो पहले एक्टर बने जिन्होंने अपनी पहली फिल्म के लिए 'बेस्ट डेब्यू कलाकार' के साथ-साथ 'बेस्ट एक्टर' का अवार्ड भी मिला था।

Third party image reference

८. राजा हिंदुस्तानी

आमिर खान और करिश्मा कपूर के अभिनय से सजी फिल्म 'राजा हिन्दुस्तानी' में एक अमीर घर की लड़की और गरीब टैक्सी ड्राइवर की प्रेमकथा दिखाई गयी थी। इस फिल्म का निर्देशन धर्मेश दर्शन ने किया था और इसके गाने भी जबरदस्त हिट हुए थे।

Third party image reference
१५ नवम्बर १९९६ को रिलीज़ हुई यह फिल्म करीब १ साल तक सिनेमाघरों में लगी रही। करीब ५.७५ करोड़ की लागत में बनी इस फिल्म ने उस समय ७६.३४ करोड़ रुपये का कारोबार किया था।

Third party image reference
रोचक बात - फिल्मफेयर अवार्ड शो में लगातार ८ साल तक नॉमिनेशन होते रहने के बाद फिल्म 'राजा हिन्दुस्तानी' के लिए आमिर खान को उनका पहला बेस्ट एक्टर अवार्ड मिला था।

Third party image reference

७. हम आपके है कौन

सूरज बड़जात्या और सलमान खान की जोड़ी की इस दूसरी फिल्म ने उस वक्त सफलता के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए थे। फिल्म में हीरोइन का रोल माधुरी दीक्षित ने निभाया था जो कि काफी लोकप्रिय हुआ था। ५ अगस्त १९९४ को रिलीज़ हुई ये फिल्म अगले १ साल तक देश के कई सिनेमाघरों में चलती रही थी।

Third party image reference
करीब १.४ करोड़ रुपए की लागत से बनी फिल्म 'हम आपके हैं कौन' को १०० करोड़ रुपए कमाने वाली भारत की पहली फिल्म माना जाता है। इस फिल्म ने दुनिया को भारतीय शादियों से परिचय कराया था। ये फिल्म राजश्री प्रोडक्शन की पुरानी फिल्म 'नदिया के पार' का ही रीमेक थी।

Third party image reference
रोचक बात - दिवंगत चित्रकार मकबूल फिदा हुसैन इस फिल्म में माधुरी दीक्षित के किरदार पर इतने फिदा हो गए थे कि उन्होंने फिल्म को ८५ बार देखने की बात कही थी।

Third party image reference

६. मैंने प्यार किया

सूरज बड़जात्या निर्देशित इस फिल्म को आज भी बॉलीवुड की सबसे आदर्श प्रेमकथा में से एक माना जाता है। वहीं सलमान खान की बतौर हीरो ये पहली फिल्म थी।

Third party image reference
२९ दिसंबर १९८९ के दिन रिलीज़ हुई यह फिल्म करीब १ साल तक सिनेमाघर में लगी रही थी। करीब २ करोड़ की लागत में बनी इस फिल्म ने उस समय लगभग १४ करोड़ रूपये का कारोबार किया था। साल १९९० में हुए ३५ वे 'फिल्मफेयर अवार्ड शो' में फिल्म 'मैंने प्यार किया' ने करीब ७ अवार्ड जीते थे।

Third party image reference
रोचक बात - फिल्म 'मैंने प्यार किया' में प्रेम नाम के किरदार, जिसे सलमान खान ने निभाया था, उसके लिए 'राजश्री प्रोडक्शन' ने पहले विन्दु दारा सिंह, पियूष मिश्रा और दीपक तिजोरी जैसे कलाकारों के नाम पर भी विचार किया था।

Third party image reference

५. बरसात

'आरके स्टूडियोज' के बैनर तले बनी इसी फिल्म से संगीतकार शंकर-जयकिशन की जोड़ी ने बॉलीवुड में कदम रखा था। राज कपूर और नरगिस के अभिनय से सजी ये फिल्म साल १९४९ में रिलीज हुई थी और अगले दो सालों तक थिएटर में चलती रही।

Third party image reference
रोचक बात - इस फिल्म के लेखक रामानंद सागर थे, जिन्होंने आगे चलकर भारत का सबसे बड़ा धार्मिक सीरियल 'रामायण' बनाया था।

Third party image reference

Third party image reference

४. किस्मत

लेखक-निर्देशक ज्ञान मुखर्जी की फिल्म 'किस्मत' को भारत की पहली ब्लॉकबस्टर फिल्म माना जाता है। ये फिल्म साल १९४३ में रिलीज हुई थी और अगले १८७ हफ्तों (करीब ३ साल) तक कलकत्ता के रोक्सी सिनेमा में चलती रही। इतना ही नहीं रिलीज़ होने के अगले ३२ सालों बाद तक अशोक कुमार और मुमताज शांति द्वारा अभिनीत इस फिल्म के नाम सबसे ज्यादा वक़्त तक चलने का रिकॉर्ड कायम रहा।

Third party image reference
रोचक बात - साल १९६१ में 'ब्वॉयफ्रेंड' नाम से एक फिल्म रिलीज हुई थी जो कि 'किस्मत' का ही रीमेक थी। शम्मी कपूर, धर्मेंद्र और मधुबाला इस फिल्म के मुख्य सितारे थे।

Third party image reference

Third party image reference

३. मुग़ल-ए-आजम

दिलीप कुमार, मधुबाला और पृथ्वीराज कपूर के जबरदस्त अभिनय के अलावा अपने भव्य सेट्स और शानदार संगीत के लिए पहचाने जाने वाली इस फिल्म का निर्देशन के आसिफ ने किया था।

Third party image reference
इस फिल्म के एक गाने का बजट ही फिल्म की कुल लागत से ज्यादा था। ५ अगस्त १९६० में रिलीज़ हुई यह फिल्म अगले ३ सालों तक सिनेमाघरों में लगी रही। एक राष्ट्रीय पुरस्कार और ३ फिल्मफेयर पुरस्कार पाने वाली ये फिल्म अगले १५ सालों तक भारत की सबसे ज्यादा वक़्त तक चलने वाली फिल्म बनी रही।

Third party image reference
रोचक बात - इस फिल्म में युवा दिलीप कुमार का रोल निभाने के लिए पहले उस्ताद जाकिर हुसैन को तय किया गया था, लेकिन बाद में ये रोल जलाल आगा ने निभाया।

Third party image reference

२. शोले

१५ अगस्त १९७५ में रिलीज़ हुई रमेश सिप्पी द्वारा निर्देशित फिल्म 'शोले' भारत की सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर फिल्मों में से एक मानी जाती है। रिलीज होने के बाद इस फिल्म ने अपने दौर में सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित किए थे। ये एक ऐसी फिल्म थी जिसका जादू बच्चों से लेकर बूढ़ों सभी पर चला था। सबसे ज्यादा चलने के मामले में ये फिल्म दूसरे नंबर पर है।

Third party image reference
इस फिल्म के प्रमुख सितारें अमिताभ बच्चन, धर्मेंद्र, संजीव कुमार, हेमा मालिनी, जया भादुड़ी और अमजद खान थे। इनके द्वारा निभाए गए जय, वीरू, ठाकुर, बसंती और गब्बर जैसे किरदारों को लोग आज भी नहीं भूल पाए है। मुंबई के मिनर्वा थिएटर में ये फिल्म करीब २८६ हफ्ते यानी ५ साल से भी ज्यादा वक़्त तक चली थी।

Third party image reference
रोचक बात - ३ घंटे से ज्यादा लंबी इस फिल्म में हेमा मालिनी और संजीव कुमार का एक भी सीन नहीं था। इसकी वजह ये है कि संजीव कुमार ने हेमा मालिनी को शादी के लिए प्रपोज किया था और हेमा उनके करीब नहीं रहना चाहती थी।

Third party image reference

१. दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे

२० अक्टूबर १९९५ के दिन रिलीज़ हुई आदित्य चोपड़ा के निर्देशन में बनी फिल्म 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' २० अक्टूबर १९९५ के दिन रिलीज़ हुई थी। ये फिल्म भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे ज्यादा चलने वाली फिल्म है।

Third party image reference
मुंबई के 'मराठा मंदिर' सिनेमाघर में इस फिल्म को चलते हुए १२४५ हफ्तों से भी ज्यादा हो चुके है। पिछले २४ सालों से ये फिल्म इस सिनेमाघर में चल रही है। इस फिल्म ने १० 'फिल्मफेयर अवार्ड' भी अपने नाम किये है।

Third party image reference
रोचक बात - फिल्म में शाहरुख़ खान के निभाए गए किरदार राज मल्होत्रा के लिए सबसे पहले सैफ अली खान से संपर्क किया गया था, लेकिन उन्होंने इस रोल के लिए इनकार कर दिया था।

Third party image reference
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments