अमिताभ बच्चन का दद्दू बन नमक हलाल में बटोरे थे सुर्खियां, सालों तक बॉलीवुड पर किया राज!

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम बात कर रहे हैं बॉलीवुड के एक ऐसे दिग्गज अभिनेता का जिन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में लगभग 30 सालों तक बिखेरा अपने अभिनय का जादू। इन्होंने अपने जमानें के सभी बड़े स्टार्स संग काम किया था, जिसमें दिलीप कुमार, अमिताभ बच्चन और धर्मेन्द्र जैसे बड़े अभिनेता शामिल हैं। दरअसल हम बात कर रहे हैं बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता ओम प्रकाश की, जिन्होंने सुपरहिट फिल्म नमक हलाल में अमिताभ बच्चन का दद्दू बन कर बहुत सुर्खियां बटोरे थे। आज 19 दिसंबर को इनका जन्मदिन है, आइए इस मौके पर जानें उनके बारे में कुछ दिलचस्प बातें..

Third party image reference
19 दिसंबर, 1919 को जम्मू में जन्मे ओमप्रकाश ने 12 साल की उम्र में क्लासिकल संगीत सीखना शुरू कर दिया था। उन्हें सगीत के अलावा थियेटर व फिल्मों में दिलचस्पी थी। वहीं उनका का फिल्मी करियर 1942 में शुरू हुआ। एक शादी में दावत के दौरान फिल्म डायरेक्टर डी पंचोली की नजर उन पर पड़ी। लाहौर में उनका आफिस था। पंचोली ने ओमप्रकाश को लाहौर आने का न्योता दिया। उन्होंने ओमप्रकाश को ‘दासी’ फिल्म के जरिये पहला ब्रेक दिया, जिसके बाद उन्होंने मुड़कर नहीं देखा।

Third party image reference
उन्होंने अपने करियर में 300 से ज्यादा फिल्में की हैं। जिनमें दस लाख, अन्नदाता, चरणदास, साधु और शैतान, दिल-दौलत-दुनिया, अपना देश, चुपके-चुपके, जूली, जोरू का गुलाम, आ गले लग जा, प्यार किए जा, पड़ोसन, बुड्ढा मिल गया, शराबी, भरोसा, तेरे घर के सामने, मेरे हम-दम मेरे दोस्त, लोफर, दिल तेरा दीवाना जैसी फिल्में शुमार हैं। वहीं एक्टिंग के साथ-साथ ओम प्रकाश ने फिल्म निर्माण में भी हाथ आजमाया। उन्होंने 60 के दशक में फिल्म संजोग, जहांआरा और गेटवे आफ इंडिया जैसी फिल्में बनाईं।

Third party image reference
ओम प्रकाश को भले ही फिल्मों में काम की कमी नहीं पड़ी लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब 14 साल की उम्र में वो 30 रुपए महीना काम करने को तैयार हो गए थे। ओम प्रकाश की लव स्टोरी भी बड़ी मजेदार थी। एक किस्सा शेयर करते हुए उन्होंने कहा कि मुझे एक सिख लड़की से प्यार हो गया था लेकिन लड़की के घरवाले मेरे खिलाफ थे क्योंकि मैं हिंदू था। मेरी मां उनके घर बात भी करने गई लेकिन उसके घरवाले नहीं मानें। जिसके बाद हमने अलग हो जाने का फैसला किया।

Third party image reference
ओम प्रकाश को दिल का दौरा पड़ने पर उन्हें मुंबई में ही लीलावती अस्पताल ले जाया गया, जहां वह कोमा में चले गए। 21 फरवरी, 1998 को उन्होंने आखिरी सांस ली।
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments