डेविड धवन जब ओम पुरी के पहले रूममेट थे, तब उन्होंने कमरा बदलने के लिए उनसे क्यों कहा था ?

बाॅलीवुड़ अभिनेता ओम पुरी ने 1973 में दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से अभिनय में अपनी पढ़ाई पूरी कर ली थी. फिर वे वहां नाट्य मंडली में काम करने लगे. मगर कुछ ही समय बाद उन्होंने पुणे के फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के एक्टिंग कोर्स (1974-76) में दाखिला लिया और एनएसडी के उनके साथी नसीरुद्दीन शाह यहां साल भर पहले से पढ़ रहे थे. FTII में ओम पुरी के पहले रूममेट डेविड धवन थे. डेविड जहां मस्ती-मजाक और हंसी-ठिठोली करने वाले आदमी थे,

डेविड धवन ने FTII में एक्टिंग कोर्स जॉइन किया था, लेकिन साथी स्टूडेंट्स सतीश शाह और सुरेश ओबेरॉय के कहने पहले उन्होंने एडिटिंग सीखनी शुरू कर दी.Third party image reference
वहीं दुसरी ओर ओम पुरी गंभीर मिजाज के थे. ओम ने पूरी जिंदगी ठोकरें खाईं. सिर पर अपनी छत नहीं थी और रोजी-रोटी का ठिकाना नहीं रहा. ऐसे संघर्षों के बाद वे कैजुअल नहीं हो सकते थे. लेकिन उनके बैकग्राउंड से परिचित न होने के कारण डेविड असहज हो गए कि इतने रूखे आदमी के साथ कैसे रहेंगे?

Photo - Social MediaThird party image reference
तब उन्होंने ओम पुरी से कहा कि वे अपना कमरा बदल लें. बाद में ओम एक्टिंग कोर्स के अन्य छात्र प्रदीप वर्मा के साथ रहने लगे.

Photo - Social MediaThird party image reference
डेविड धवन को बाद में हालांकि अपनी नासमझी का अहसास हुआ होगा. लेकिन बाद में दोनों में ठीक-ठाक परिचय भी हो गया. डेविड के डायरेक्शन वाली फिल्मों में ओम ने काम किया. ख़ुद डेविड ने कहा है कि ”मैंने एक एक्टर के तौर पर ओम को तब परखा जब हमने नब्बे के दशक में ‘कुंवारा’, ‘दुल्हन हम ले जाएंगे’ जैसी फिल्मों में साथ काम किया. उस वक्त से हम बहुत आगे आ चुके हैं, जब मुझे लगा करता था कि ओम हंसमुख नहीं हैं.”

यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments