जामिया में पुलिस कार्रवाई पर सवाल उठाकर ट्रोल हुआ यह गायक, यूजर्स बोले"देश विरोधी नारे"

नागरिकता कानून को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर पुलिस की बर्बर कार्रवाई के आरोप लगाए गए हैं। इस पर लेखक और गीतकार जावेद अख्तर ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों की पिटाई की कड़ी निंदा की है। उनके इस ट्वीट पर एक IPS अधिकारी ने उन्हें जवाब दिया है

Third party image reference
जावेद अख्तर ने लिखा- 'लॉ ऑफ लैंड के मुताबिक, किसी भी परिस्थिति में पुलिस किसी भी यूनिवर्सिटी के कैंपस में यूनिवर्सिटी के अधिकारियों की इजाजत के बिना नहीं घुस सकती। जामिया कैंपस में बिना इजाजत घुसकर पुलिस ने एक ऐसी मिसाल कायम की है जो हर यूनिवर्सिटी के लिए एक खतरा है।' जावेद अपने इस ट्वीट के बाद ट्रोल हो गए।

Third party image reference
एक यूजर ने लिखा- देश की पुलिस बिना परमिशन नहीं घुस सकती कानून इसकी इजाजत नहीं देता। फिर देश मे बिना परमिशन घुसे घुसपैठियों को कानून क्यों इजाजत दे ?? फिर जो ये सब कुछ हो रहा है वो क्यों हो रहा है। बसों में आग लगाना, सड़कें जाम करना, पत्थर बाजी करना कानूनी है

Third party image reference
एक अन्य यूजर ने लिखा- आर्टिकल 14 पर जामिया मिल्लिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को प्रदर्शन ही नहीं करना चाहिए क्योंकि यहां 50% आरक्षण है। आरक्षण के टाइम आर्टिकल 14 याद नहीं आया क्या?

Third party image reference
एक ने लिखा- स्टूडेंट हैं तो पढ़ाई करें राजनीति में क्यों घुस रहे हैं? देश विरोधी नारे लगाएंगे, देश की सरकारी संपत्ति और लोगों को नुकसान पहुंचागें तो क्या पुलिस छोड़ देगी? एएमयू के वीडियो वायरल हो रहे हैं वह भी देखलो फिर यहां पर आकर सरकार को ज्ञान देना।

Third party image reference
बता दें नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में जामिया इस्लामिया के आसपास और जामिया नगर इलाके में सोमवार को दिनभर तनाव का माहौल रहा। प्रदर्शनकारी सुबह से ही सड़कों पर आ गए और पुलिस कार्रवाई का विरोध जताने लगे। उधर, डीयू में भी प्रदर्शन हुआ और छात्रों व पुलिस में हल्की झड़प हुई। पुलिस ने दोपहर व शाम को जामिया नगर समेत कई इलाकों में फ्लैग मार्च निकाला।
यह भी पढ़ें: भाई के मरते ही भाभी के साथ सोने लगा देवर और हर दिन बनाने लगा संबंध...

No comments