90% लोगों ने नहीं देखी होंगी रेखा और उनके पहले पति मुकेश की यह तस्वीरें, ऐसे हुई थी मौत

अभिनेत्री रेखा 63 साल की हो चुकी हैं। रेखा को जन्मदिन की अनंत मंगलमय शुभकामनाएं। 10 अक्टूबर, 1954 को तमिलनाडु के चेन्नई में उनका जन्म हुआ। रेखा का असली नाम भानुरेखा गणेशन है। रेखा की पास्ट लाइफ काफी कंट्रोवर्शियल रही है। कई लोगों के साथ उनका नाम जोड़ा गया। मेगास्टार अमिताभ बच्चन के साथ भी उनके अफेयर के चर्चे रहे। लेकिन आज के आर्टिकल में हम चर्चा करेंगे उनके पहले पति के बारे में।

Third party image reference
रेखा के पहले पति के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। बता दें कि उनका नाम मुकेश अग्रवाल था। 4 मार्च 1990 की दोपहर मुकेश अग्रवाल रेखा की फ्रेंड सुरेंद्र कौर के साथ उनके घर पहुंचे और रेखा को प्रपोज कर दिया था। रेखा मुकेश के प्रपोजल को ठुकरा नहीं पाईं और दोनों ने मुंबई के मुक्तेश्वर देवालय से शादी कर ली थी। उस वक्त रेखा की उम्र 35 साल और मुकेश की उम्र 37 साल थी।
मुकेश ने मौत को क्यों चुना?

Third party image reference
यह सवाल सबके मन में आ रहा होगा कि ऐसा क्या हुआ जिससे मुकेश अग्रवाल ने मौत को गले लगा लिया। शादी के शुरुआती दिनों में दोनों के बीच सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था लेकिन कुछ दिनों बाद मुकेश ने अपनी साइकोथैरेपिस्ट आकाश बजाज के बारे में रेखा को बताया। आकाश दो बच्चों की मां और तलाकशुदा थी। पति के अलग होने के बाद आकाश और मुकेश के बीच नजदीकियां बढ़ गईं थी।

Third party image reference
1990 में शादी के बाद मुकेश को बिजनेस में काफी नुकसान झेलना पड़ा लेकिन मुकेश ने इस बारे में रेखा को नहीं बताया। रेखा को मुकेश की यह बात अच्छी नहीं लगी और यहीं से दोनों के बीच दूरियां बनने लगीं। रेखा अपनी फिल्मों के सिलसिले में मुंबई में शिफ्ट हो गईं लेकिन मुकेश चाहते थे कि वह उनके साथ दिल्ली में रहे।

Third party image reference
रेखा ने शादी से पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि प्रेग्नेंट होने के बाद ही वह उनके साथ रहेंगी इसलिए मुकेश अपने बिजनेस में हो रहे घाटे की परवाह ना करते हुए मुंबई में रेखा के साथ रहने लगे। पार्टीज में जाते समय लोग मुकेश की तरफ इशारा करते हुए बोलते थे क्या यह वही है जिससे रेखा ने शादी की है। रेखा को यह शर्मिंदगी भरा लगा और उन्होंने मुकेश को दिल्ली जाने को कहा।
तन्हाई में कटने लगे दिन

Third party image reference
बाद में कुछ ऐसा समय आया जब रेखा मुकेश का कॉल भी रिसीव नहीं करती थी। बाद में रेखा ने मुकेश को फोन करके बताया कि वह झूठ की बुनियाद पर बने रिश्ते में नहीं रहना चाहती। मुकेश काफी डिप्रेशन में रहने लगे और गोलियों का ओवरडोज लेने लगे। 2 अक्टूबर 1990 के दिन मुकेश ने अपने मुंबई स्थित फार्महाउस पर रेखा के दुपट्टे से फांसी लगाकर सुसाइड कर लिया।
1990 में रेखा और जितेंद्र स्टार शेषनाग फिल्म रिलीज हुई तो लोगों ने फिल्म के पोस्टर पर लगी रेखा की तस्वीर पर कालिख पोत दी। उस वक्त मुकेश अग्रवाल की मौत सुर्खियों में थी और लोग उनकी आत्महत्या को रेखा से जोड़ रहे थे। अशोक के भाई ने भी रेखा पर गंभीर आरोप लगाए।
Loading...

No comments