जिंदगी भर कैमरे से अपना बायां हाथ छुपाती रही यह अभिनेत्री, आखिर खुल ही गया राज


 
भारत की सबसे कुशल अभिनेता मीना कुमारी की कहानी आज भी तैरती रहेगी। अगस्त 1933 में एक दिन, मीना कुमारी का जन्म हुआ। जब वे केवल 19 वर्ष के थी, तब उन्होंने लेखक-निर्देशक कमाल अमरोही से शादी कर ली। लेकिन उनके पति उनकी इतनी देखरेख नही करते थे और वे उन्हें मारते-पीटते थे। उनके जीवन में धर्मेंद्र, अशोक कुमार, गुलज़ार के नाम जोड़े गए। 39 साल की उम्र में, 31 मार्च 1972 को वह दुनिया के सामने आई।

 
मीना कुमारी के बारे में पढ़ी गई कहानियों में इस बात का बहुत कम उल्लेख है कि उन्होंने जीवन भर लोगों से अपना बायां हाथ क्यों रखा। मीना कुमारी के बाएं हाथ की सबसे छोटी उंगली मुड़ी हुई थी। इसके पीछे की कहानी एक साक्षात्कार में ताजदार अमरोही के बेटे कमाल अमरोही की कहानी बताती है। उनका कहना है कि 21 मई, 1951 को मीना कुमारी महाबलेश्वर से बंबई (अब मुंबई) लौट रही थीं, तभी उनकी कार का एक्सीडेंट हो गया। यह एक्सीडेंट बहुत अधिक था। वह कई दिनों तक अस्पताल में रही। और उनका बायां हाथ जख्मी हो गया। छोटी उंगली टूट गयी थी। उसका आकार बदलकर गोल हो गया।

 
वास्तव में, मीना कुमारी का असली नाम 'महजबीन बानो' था। पाकीजा, साहेब बीवी और गुलाम जैसी फिल्मों और उनके गानों की आज भी दर्शक उन्हें याद करते हैं। मीना कुमारी ने कमाल अमरोही से शादी की, जिनसे उनकी मुलाकात 1952 में फिल्म 'तमाशा' के सेट पर हुई थी। इस समय, कमाल अमरोही अपनी फिल्म 'अनारकली' के लिए एक अभिनेत्री की तलाश कर रहे थे। लेकिन कमाल अमरोही और मीना कुमारी की यह परिचित कहानी कई उतार-चढ़ावों से भरी है। फिर दोनों की शादी हो गई और बाद में दोनों अलग हो गए थे।
Loading...

No comments